ads

Life insurance tips and strategies

8 Tips for Buy Right insurance














परिवार के मुखिया की मृत्यु उन पर आश्रित लोगों के लिए भावनात्मक रूप से और आर्थिक रूप से काफी दर्द नाक हो सकती है।यदि आपके पास सही जीवन बीमा है तो वित्तीय से एक हद तक ध्यान रखा जा सकता है यहां आपको जीवन बीमा खरीदने से पहले कुछ बातें बताई जानी चाहिए।

1. आपको जीवन बीमा कि कितना आवश्यकता है?

पहली बात यह मूल्यांकन करना है कि आपको कितने जीवन बीमा की आवश्यकता है। गणना करने के लिए कई तरीके हैं लेकिन मोटे तौर पर यह आंकड़ा 10 से 12 गुना आप की वार्षिक आय के साथ साथ किसी भी देनदारियों को घटा कर होनी चाहिए। यदि आपके पास कोई व्यक्ति आश्रित नहीं है तो आपको जीवन बीमा की आवश्यकता नहीं हैयदि आपकी आश्रित की स्वयं की आय है तो बीमा का जो गाना है वह बदल जाएगा आपको आदर्श रूप से हर साल इस आंकड़े की गणना करनी चाहिए कि क्या आप पर्याप्त रूप से कवर किए गए हैं या नहीं।

2 Pure Term बीमा सबसे अच्छा है

जवाब जीवन बीमा के बारे में सोचते हैं तो यूलिप प्लान या पूरी लाइफ पॉलिसी जैसे इंश्योरेंस जिनमें इन्वेस्टमेंट होते हैं उनसे दूर रहें आपको Pure Term बीमा से चिपके रहना चाहिए जिसका अर्थ है कि मृत्यु नहीं होने पर कोई रिटर्न नहीं है बीमा कंपनियों ने प्रीमियम उत्पादों की वापसी को टर्म इंश्योरेंस के रूप में वर्गीकृत किया है जहां प्रीमियम का भुगतान आंशिक रूप से या पूरी तरह से नो डेथ के मामले में किया जाता है।

3 ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन बीमा ?

लगभग सभी जीवन बीमा कंपनियां ऑफलाइन और ऑनलाइन योजनाओं की पेशकश करती हैं आपको कंपनी की वेबसाइट से ऑनलाइन बीमा खरीदना चाहिए क्योंकि यह ऑफलाइन समकक्ष की तुलना में लगभग 30 से 40 परसेंट सस्ता है ऑफलाइन टर्म प्लांस में एजेंट कमीशन का निर्माण किया गया है और इसलिए यह महंगे हैं ऑनलाइन बीमा खरीद करते समय कंपनी की वेबसाइट के माध्यम से ही खरीदें और  Reseller  के माध्यम से नहीं ऑनलाइन योजना का लाभ में गलतियां की कम संभावना है क्योंकि यह आपके द्वारा भरा गया है यदि आप इंटरनेट के जानकार नहीं है तो केवल ऑफलाइन खरीदें ।

4 Single or Regular Premium ?

कई बीमा कंपनियां सिंगल प्रीमियम पर डिस्काउंट देती हैं रेगुलर प्रीमियम की अपेक्षा ,हमें रेगुलर प्रीमियम को चुना जाना चाहिए क्योंकि यदि वही अमाउंट जो हम सिंगल प्रीमियम में पे कर देते हैं उसी को किसी जगह इन्वेस्टमेंट कर देते हैं या बैंक में एफडी कर देते हैं तो उसका अच्छा खासा हमें ब्याज मिल जाता है और इसके अलावा यदि किसी ने सिंगल प्रीमियम पे कर दिया है यदि उसकी मृत्यु पहले हो जाती है तो इनके में रिफंड करने का ऑप्शन नहीं होता जैसे कि कोई व्यक्ति है यदि इसका सिंगल प्रीमियम बन रहा है डेढ़ लाख रुपए और उसने डेढ़ लाख रुपए तय कर दिया बट उस व्यक्ति की मृत्यु मान लीजिए 5 साल में हो जाती है अगर व्यक्ति की मंथली जो सिंगल प्रीमियम है ₹700 है उसके हिसाब से उसको 5 साल में कम ही तय करना रहता है बाकी उसके बाद उसको क्लेम का बेनिफिट मिल जाता है।

5 Lum Sum or Installment payout ?

बीमा कंपनियां हाल ही में मंथली इंस्टॉलमेंट के रूप में भुगतान को बढ़ावा देना शुरू किया है यदि कोई व्यक्ति जो पॉलिसीहोल्डर था उसकी डेथ हो जाती है उस पर जो आश्रित लोग हैं यदि उनको एक मुफ्त पैसा मिलता है और उसको रखने में असक्षम है या कोई उन पर आपदा आ सकती है इस कंडीशन में उन्हें मंथली इंस्टॉलमेंट लेनी चाहिए यदि पॉलिसी होल्डर पर आश्रित व्यक्ति सक्षम है कि उस पैसे का कैसे वह प्रबंध करें कैसे इसका यूज करें तुम उन्हें एक मुस्त राशि पसन्द करनी चाहिए।

6  अधिकतम समय के लिए बीमा लें।

बीमा कंपनियां अब ज्यादा से ज्यादा समय के लिए प्लान पेश कर रहे हैं पालिसी धारकों के लिए अच्छी बात है रिटायरमेंट तक आदर्श रूप से बीमा कवर ले सकते है कम समय और ज्यादा समय की बीमा में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता थोड़ा अंतर रहता है इसलिए ज्यादा समय के लिए बीमा लेनी चाहिए यदि आपको लगता है कि आगे इसकी आवश्यकता नहीं है तो पॉलिसी को बीच में भी बंद कर सकते हैं।

7 .एक अथवा कई सारे पॉलिसी ?

यदि आपको बड़े जीवन कवर की आवश्यकता है तो आपको एक पॉलिसी का विकल्प चुनना चाहिए ना कि इसको कई सारे पॉलिसी में विभाजित करनी चाहिए आप जैसे मान लीजिए यदि आपको तीन करोड़ की बीमा कवर की आवश्यकता है तो आपको एक पॉलिसी लेनी चाहिए जिसे आप का प्रीमियम कम पड़ता है कि आप वही तीन करोड़ के लिए एक एक करोड़ की तीन पॉलिसी लेंगे तो आपको ज्यादा प्रीमियम पे करना पड़ सकता है सभी के अपने फायदे और नुकसान होते हैं।

8. Riders or No Riders ?

जीवन बीमा उत्पादों में बहुत सारे राइडर आते हैं जैसे कि एक्सीडेंटल डेथ क्रिटिकल इलनेस etc हम राइडर्स को चुनने के लिए प्रोत्साहित नहीं करते क्योंकि वह व्यापक नहीं है बहुत से कंपनी में कुछ कम गंभीर बीमारी को कवर करते हैं कुछ कंपनी में ज्यादा करते हैं यदि आपको जरूरत पड़ती है तो आप पर्सनल एक्सीडेंटल जरनल इंश्योरेंस ले सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments